डॉ अमोल चौहान डीएम (हृदय रोग विशेषज्ञ) कहते हैं – विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार दिल का दौरा – दुनिया में मौत का नंबर 1 कारण

दिल का दौरा – पूरी दुनिया में लगभग १.७ करोड़ लोगों की मृत्यु हृदय की बीमारी के कारण होती है । विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO ) के अनुसार , दुनिया भर में सभी नॉन – कम्युनिकेबल डिज़ीज़ ( NCD ) के कारण होने वाली मृत्यु का पांचवा हिस्सा भारत के नाम जाता है और अधिकतर इसका शिकार युवा पीढ़ी पर होती है ।

२०१७ में लगभग २६ लाख भारतीयों की मृत्यु की बीमारी के कारण हुई , जो कि हमारे देश में मृत्यु का सबसे प्रमुख कारण था । भारत में की गई एक रिसर्च अध्ययन ( इंटरहार्ट स्टडी ) के अनुसार ९ ० % से भी अधिक दिल के दौरों का कारण था फल और सब्जियां कम खाना , शारीरिक गतिविधि कम करना और साइकोसोशल तनाव । हम सभी जानते हैं कि दिल का दौरा एक ऐसी आपातकालीन चिकित्सीय स्थिति है , जिसमें अक्सर मृत्यु हो जाती है और व्यक्ति जीवित रहता है तो उसके परिवार के लिए एक बेहद डरावना अनुभव बन जाता है ।

आपके हृदय की मांसपेशियों को जीवित रहने के लिए ऑक्सीजन की ज़रूरत पड़ती है और दिल का दौरा तब पड़ता है , जब हृदय की मांसपेशियों तक ऑक्सीजन युक्त रक्त के प्रवाह में रूकावट आने लगती है या पूरी तरह रुक जाता है । सामान्यतया दिल का दौरा तब पड़ता है , जब ब्लड क्लॉय ( रक्त का थक्का ) हृदय तक होने वाले रक्तप्रवाह को रोक देता है । रक्त न मिलने पर टिश्यू को ऑक्सीजन नहीं मिलता और ये मरने लगते हैं । s दिल का दौरा दरअसल ऐसी स्थिति के लिए व्यापक शब्द है , जिसमें हृदय की मांसपेशियों तक होने वाला रक्तप्रवाह अचानक बंद हो जाता है ,

1.स्टैमी : एक तरह का दिल का दौरा , जो तब पड़ता है , जब हृदय तक रक्त पहुंचाने वाली रक्तवाहिनियां बंद हो जाती हैं ( ब्लॉक ) ।

2.एनस्टैमी : एक तरह का ऐसा दिल का दौरा , जिसमें रक्तवाहिनियां आंशिक रूप से बंद हो जाती हैं , जिससे रक्त का प्रवाह गंभीर रूप से कम हो जाता है ।  3.मायोकार्डियल इनफ़ाशन ( MI ) : हृदय की मांसपेशियों के किसी एक हिस्से को ऑक्सीजन युक्त रक्त न मिलने के कारण इन्हें गंभीर रूप से नुकसान पहुंचना या मर जाना । यह भी दिल के दौरे के लिए भी एक चिकित्सीय शब्द है ।

लक्षण –

छाती में होने वाला दर्द हो सकता है बांए हाथ की तरफ  पहुंचे और अक्सर छाती में बहुत तेज़ दर्द या जकड़न महसूस हो या हल्का दर्द हो ।

अक्सर छाती में बहुत तेज़ दर्द होता है , लेकिन कुछ लोगों को हो सकता है केवल हल्का दर्द हो , जैसे कभी – कभी बदहज़मी या गैसे के कारण होता है ।

इसके साथ अक्सर अधिक पसीना भी होता है और आंखों के आगे अंधेरा सा छा जाता है । इसके अलावा , दिल का दौरा पड़ने पर चक्कर , मतली जैसे सामान्य लक्षण भी दिखाई देते हैं । यदि ये लक्षण १५ से अधिक मिनट तक बने रहें तो ये स्पष्ट रूप से दिल के दौरे के लक्षण हैं ।

आइए , हम बताएं कि दिल का दौरा पड़ने के लक्षण दिखाई देने पर क्या करना चाहिए :

यदि मरीज़ बहुत तकलीफ़ में है और होश में भी है तो उसे आरामदायक स्थिति में लिटा दें ।

उसके कपड़े ढीले कर दें । उससे पूछें कि क्या वह दिल का मरीज़ है और उसके पास नाइट्रो – ग्लायसीरीन टैबलेट्स हैं. इन्हें आप दे सकते हैं ।

कई अस्पतालों में बुनियादी लाइफ़ सपोर्ट के कोर्स चलाए जाते हैं , बहरहाल , हर संस्थान , कार्यालय या हाउसिंग सोसायटी में आपातकालीन स्थिति में दिल का दौरा पड़ने के दौरान चिकित्सीय सहायता देने के लिए कुछ व्यक्तियों को अवश्य प्रशिक्षित बनाना चाहिए ।

दिल का दौरा पड़ने पर कई बार आज के बढ़ते ट्राफ़िक के कारण एम्ब्युलेंस आने में देर भी हो जाती है । ऐसे में मरीज़ को जल्द से जल्द गाड़ी में बिठाकर , नज़दीकी अस्पताल में ले जाना जाहिए , जहां कैथ लैब या आपाताकालीन कार्डिएक सेवाएं उपलब्ध हों ।

सुझाव – दिल के दौरे से सुरक्षित रहने के लिए यह बहुत ज़रूरी है आप नियमित अपने स्वास्थ्य की जांच करवाते रहे । इसके अलावा , जोखिम कारक घटक यानी ब्लड प्रेशर या ब्लड शुगर तथा कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण रखें ।

यह याद रखना बहुत जरूरी है कि स्वस्थ हृदय और बेहतर रक्त प्रवाह प्रणाली के लिए स्वस्थ संतुलित भोजन करना बहुत ही ज़रूरी है । इसके लिए अपने भोजन में फल और सब्जियां , साबूत अनाज , लीन मीट , फ़िश और दाल अवश्य शामिल करें । नमक , शक्कर और फ़ैट का सेवन ‘ जितना हो सके , कम करें । भारत जैसे देश में निष्क्रिय जीवन शैली एक बहुत ही गंभीर समस्या बन रहा है , जो कि शहरों में लगातार बढ़ती जा रही है । क्योंकि भागदौड़ और तनाव पूर्ण ज़िंदगी के कारण लोगों को शारीरिक व्यायाम के लिए समय नहीं मिलता । हमारा सुझाव है कि हृदय को चुस्त – तंदुरूस्त रखने के लिए आपको हर दिन कम से कम ३० मिनट नियमित रूप से शारीरिक गतिविधि अवश्य करना चाहिए

———Dr. Amol Chavhan Dm(Cardiologist)

 

डॉ अमोल चौहान डीएम (हृदय रोग विशेषज्ञ) कहते हैं – विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)  के अनुसार  दिल का दौरा – दुनिया में मौत का नंबर 1 कारण

Author: admin